बजरंग पूनिया की जीवनी -Bajrang Punia Biography

0
204 views
Bajrang Puniya

दोस्तों http://mysmarttips.in में आपका एक बार फिर से स्वागत है ।

Sr.NO व्यक्तिगत जानकारी *******************
1 पूरा नाम बजरंग पुनिया
2 राष्ट्रीयता  भारतीय
3 आवास  हरयाणा, भारत
4 जन्म तिथि  26 फरवरी, 1994 
********* खेल  ********************
1 देश भारत
2 खेल  कुश्ती
3 खेल  प्रकार फ्रीस्टाइल कुश्ती
4 कोच योगेश्वर दत्त

 

********* बजरंग पुनिया के पदक ********

विश्व कुश्ती चैंपियनशिप
कांस्य पदक २०१३ बुडापेस्ट ६० KG
रजत पदक २०१८ बुडापेस्ट ६५ KG
एशियाई चैम्पियनशिप
सुवर्ण पदक २०१८ जाकार्ता ६५ KG
रजत पदक २०१४ इंचेऑन ६२ KG
राष्ट्रमंडल खेल
सुवर्ण पदक २०१८ गोल्ड कोस्ट ६५ KG
रजत पदक २०१४ ग्लासगो ६१ KG
एशियाई चैम्पियनशिप
कांस्य पदक २०१३ नई दिल्ली ६० KG
रजत पदक २०१४ अस्ताना ६१ KG
सुवर्ण पदक २०१७ नई दिल्ली ६५ KG
कांस्य पदक २०१८ बिश्केक ६५ KG

 

भारत की 2020 टोक्यो ओलंपिक खेलों के पदक कि सुनहरी उम्मीद युवा पहलवान बजरंग पूनिया के बारे में जानते है ।

हरियाणा में झज्जर जिले के खुडन गाँव में  बजरंग पूनिया का जन्म हुआ । उन्होंने सातवें वर्ष की उम्र में ही कुश्ती खेलना शुरू किया और उनके पिता बलवान सिंह ने उन्हें कुश्ती खेलने के लिए प्रोत्साहित किया।

हरिंदर सिंह पूनिया बजरंग पुनिया के भाई हैं।

जन्म –

पूनिया का जन्म 26 फ़रवरी 1994 को झाझर गाँव, हरियाणा में हुआ ।

Bajrang Puniya के पिता का नाम बलवान सिंह पूनिया हैं तथा उनकी माता का नाम ओमप्यारी हैं। उनके भाई हरिंदर सिंह भी एक पेशेवर पहलवान है।

सोनीपत में प्रशिक्षण –

उनका परिवार सोनीपत में स्थानांतरित हो गया, ताकि बजरंग भारतीय खेल प्राधिकरण सोनीपत में क्षेत्रीय केंद्र में कुश्ती सीख सकें।

उन्होंने शुरुआत में सोनीपत और बाद में दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में प्रशिक्षण लिया। बाद में उन्होंने करनाल में हरियाणा पुलिस अकादमी में कुश्ती का अभ्यास किया ।

इसे भी पढ़े …

Golden girl of India-Hima Das- हिमा दास की जीवनी

राकेश झुनझुनवाला जी की Success स्टोरी

प्रशिक्षक – योगेश्वर दत्त –

वह वर्तमान में पहलवान योगेश्वर दत्त के मार्गदर्शन में गोहाना में अभ्यास कर रहे हैं। वह भारतीय रेलवे में टिकट परीक्षक के रूप में काम करते है।

मुश्किल हालात का सामना –

बजरंग को कुश्ती विरासत में मिली ।उनके पिताजी भी कुश्ती में रुचि रखते थे , लेकिन गरीबी ने उनके करियर को आगे नहीं बढ़ने दिया। कुछ ऐसा ही बजरंग के साथ हुआ ।

 पिता के पास भी अपने बेटे को घी खिलाने के पैसे नहीं होते थे। इसके लिए वो बस का किराया बचाकर साइकिल से चलने लगे और पैसे बचाने लगे ।

जो पैसे बचते, उसे वो अपने बेटे के खाने पर खर्च करते थे । ऐसे हालातों से गुजरते हुए बजरंग ने पहलवानी की दुनिया में अपने देश का नाम रोशन किया ।

ओलंपिक के लिए क्वालीफाई –

भारत के स्टार पहलवान बजरंग पूनिया 2020 टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई कर चुके है।

भारतीय पहलवान बजरंग पूनिया ने विश्व कुश्ती चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में जगह बनाने के साथ ही भारत के लिए दूसरा ओलंपिक कोटा हासिल कर लिया।

ओलिंपिक खेलो में भारत की सबसे पड़ी पदक की उम्मीद है बजरंग पुनिया ।

बजरंग की कामयाबी –

जब जस्बे और लगन से कोई काम किया जाता है तो ,उसका परिणाम अच्छा ही मिलता है । वही बजरंग के साथ हुआ और देखते ही देखते बजरंग ने कुश्ती के खेत्र में अपना नाम रोशन किया है ।

निचे बजरंग की कुछ उपलब्धिया दी गई है –

  1. २०१३ एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप: बजरंग ने नई दिल्ली में ६० किलोग्राम भार वर्ग में कांस्य पदक जीता।
  2. २०१३ विश्व कुश्ती चैंपियनशिप: बजरंग ने हंगरी के बुडापेस्ट में ६० किलोग्राम वर्ग में कांस्य पदक जीता।
  3. २०१४ राष्ट्रमंडल चैंपियनशिप: स्कॉटलैंड के ग्लासगो में ६१ किलोग्राम भार वर्ग में बजरंग ने रजत पदक जीता।
  4. २०१४ एशियाई खेल: दक्षिण कोरिया के इंचियोन में बजरंग ने ६१ किलोग्राम भार वर्ग में रजत पदक अर्जित किया।
  5. २०१४ एशियन रेसलिंग चैम्पियनशिप: कजाकिस्तान के अस्ताना में ६१ किलोग्राम भार वर्ग में बजरंग ने रजत पदक अर्जित किया।
  6. २०१७ एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप: बजरंग ने नई दिल्ली में ६० किलोग्राम भार वर्ग में स्वर्ण पदक जीता।
  7. २०१८ राष्ट्रमंडल चैंपियनशिप: बजरंग ने गोल्ड कोस्ट, ऑस्ट्रेलिया में ६५ किलोग्राम भार वर्ग में स्वर्ण पदक जीता।
  8. २०१८ एशियाई खेल: बजरंग ने इंडोनेशिया के जकार्ता में एशियाई खेलों में ६५ किग्रा भार वर्ग में जापान के तकाताई को हराकर स्वर्ण पदक जीता ।
  9. २०१८ विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप: बुडापेस्ट में बजरंग को फाइनल में जापानी मल्ल ताकोतो ओटुगारो से 6-9 से हारना पड़ा ।उसके साथ ही बजरंग ने रजत पदक हासिल किया । पहली बार विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में दो पदक जीतनेवाला पहला भारतीय पहलवान बन गया।

प्राप्त  पुरस्कार –

  1. अर्जुन पुरस्कार -2015
  2. राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार-2019
  3. पद्म श्री पुरस्कार -2019

तो इस पोस्ट में हमने युवा पहलवान बजरंग पुनिया के बारे में रोचक जानकारी हासिल की है।
अगर आपको पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों से साथ शेअर जरूर करे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here