क्या आप ऑनलाइन सुरक्षा और प्राइवेसी  लेकर  परेशान रहते हैं आपको भी लगता है आपकी व्यक्तिगत (personal) जानकारी हैकर के हाथ लग जाएगी। और आप अपनी ईमेल पेमेंट के बिल आदि को सुरक्षित रखना चाहते हैं तो आपको VPN (virtual  private network)बारे में पता होना चाहिए लेकिन अगर आपको VPN क्या हैं ?और VPN कैसे काम करता हैं? VPN इस्तेमाल कैसे करते हैं?VPN के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए इस आर्टिकल को पूरा तक जरूर पढ़ेंVpn kya hai

VPN क्या हैं 

VPN का पूरा नाम = virtual private network  ( वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क ) हैं। यह एक ऐसी सर्विस है जिसमें आपको प्राइवेसी और  सुरक्षा दोनों मिलती हैं।

इसे हम इस उदाहरण से समझते हैं अगर आप किसी होटल या रेलवे स्टेशन में जाते हैं तो वहां आपको फ्री वाई-फाई दिया अगर आप वाईफाई अपने मोबाइल से कनेक्ट करते हैं तो इसमें आपकी प्राइवेसी या आपके मोबाइल से डाटा चोरी होने का खतरा होता है vPN का इस्तेमाल करके इन चीजों से बच सकते हैं. अगर आपके लोकेशन या ip address में कोई website  block  या एप्लीकेशन हैं । VPN का इस्तेमाल करके उस  वेबसाइट या  वेबसाइट एक्सेस कर सकते हैं। VPN मैं आप दुनिया में से किसी एक लोकेशन को चुनकर  वहा से अपने  internet को एक्सेस कर सकते है। और अगर आपके ip address में कोई एप्लीकेशन या वेबसाइट ब्लॉक है तो आप VPN का इस्तेमाल करके उस वेबसाइट या एप्लीकेशन को एक्सेस कर सकते हैं। VPN का इस्तेमाल करके आप दुनिया भर के किसी भी लोकेशन को चुनकर वहां से अपने इंटरनेट को एक एक्सेस कर सकते हैं । वहां से अपने इंटरनेट को एक्सेस कर सकते हैं जिससे आपकी प्राइवेसी और सुरक्षा का कोई पता नहीं लगा पाएगा।

VPN काम कैसे करता हैं ?

जब आप एक सुरक्षित VPN के सर्वर कनेक्ट होंगे तो आपका इंटरनेट ट्राफिक encrypted (कूट लेखन )  tunnel से गुजरता है जिसे कोई नहीं देख सकता हैं। ना कोई हैकर और ना आपका इंटरनेट सर्वर मतलब आपका डाटा कोई नहीं पढ़ सकता हैं। 

VPN कैसे काम करता ह                                                    

 इसे हम दो माध्यम से समझते हैं

1: जब हम बिना VPN  के Website  का  सेक्सेस   लेते हैं। और । उस इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर ISP के द्वारा साइट में कनेक्ट कर पाते हैं.ISP हमें एक यूनिक ip address बताता है .ISP चीजों का पता लगा सकता है . जिन वेबसाइटों में हम गए थे और हमारी प्राइवेसी सुरक्षित नहीं रहती हैं।

2: और जब हम VPN सर्वर से इंटरनेट में कनेक्ट होते हैं हमारे मोबाइल में जो VPN की एप्लीकेशन होती है वह हमारी प्राइवेसी को सुरक्षित रखता है अभी भी हमारी इंटरनेट में ISP के द्वारा ही ट्राफिक पास होता है लेकिन ISP यह नहीं बता पाता कि हम कौन कौन सी वेबसाइट में गए थे और हम  जो साइटों में गए थे वह हमारा यूनिक आईपी एड्रेस नहीं देख सकती है। और हमारी प्राइवेसी सुरक्षित रहती है

VPN किसने बनाया

VPN  को 1996 में Microsoft  ने बनाया था। और धीरे-धीरे सारी कंपनियां VPN से कनेक्ट हो गई

VPN का इस्तेमाल कब  करना चाहिए ?

अगर आपके लिए प्राइवेसी बहुत जरूरी है तो आपको हर बार इंटरनेट से कनेक्ट करते वक्त VPN  का यूज़ करना चाहिए लेकिन आपको इन जगहों पर  VPN का यूज करना ही चाहिए अगर आप गेम खेल रहे हो उस वक्त किसी से वाईफाई कनेक्ट करते वक्त , यात्रा करते वक्त  इसका इस्तेमाल अवश्य करना चाहिए.

VPN के प्रकार

VPN के दो प्रकार होते हैं

1: remote access VPN 

2: site to site VPN को router to router VPN भी कहते है 

VPN का इस्तेमाल कैसे करें

1:सबसे पहले आपको प्ले स्टोर में जाना है VPN को सर्च करना है 

2:सबसे पहले आपको अपने मोबाइल में proxy VPN प्ले स्टोर से डाउनलोड करना हैं।

3:उसके बाद आपको proxy VPN  app को ओपन करना है और आपको on/off  एक बटन दिखेगा आपको उसमें क्लिक करना है इसके बाद  VPN सर्वर कनेक्ट हो जाएगा।

4:अगर आप चाहते हो किसी सिलेक्टेड कंट्री का  VPN अपने फोन में इस्तेमाल करना तो आप उसके लिए smart content की ऑप्शन में क्लिक करना है और आपको कई सारी  कंट्री के VPN देखने को मिल जाएगा आपको जिस भी कंट्री का VPN इस्तेमाल करना चाहते हैं उस कंट्री में क्लिक करें और आपका सर्वर उस कंट्री के VPN से कनेक्ट हो जाएगा. 

6:और अगर आप VPN सर्वर को अपने मोबाइल फोन से डिस्कनेक्ट करना चाहते हैं तो आपके पास एक नोटिफिकेशन आया होगा उसमें आपको डिस्कनेक्ट का ऑप्शन मिला होगा उसमें क्लिक करके आप VPN को  डिस्कनेक्ट कर सकते हैं।।

VPN  के फायदे

VPN के फायदों की बात करें तो आपकी browsing history, ip address, location, streaming location, device and web activity  .hide हो जाती है।

VPN के नुकसान 

Slow speed  का होना ,no cookies protectien ,और no total privacy  कितना सुरक्षित होने के बाद भी इसे हम पूर्ण रूप से सुरक्षित नहीं कह सकते हैं। क्योंकि यह हैकर से आपके डाटा को hide कर देता है लेकिन खुद VPN प्रोवाइडर्स चाहे तो आपके डाटा को देख सकते हैं..

तो हमारा यह आर्टिकल  कैसा लगा कमेंट करके अवश्य बताएं और इसे अधिक से अधिक लोगों तक शेयर करें और यदि आपके आपके पास भी सवाल है तो उसे कमेंट करके पूछ सकते है।