नमस्कार दोस्तों ! Best My Smart Tips Blog में आपका स्वागत है । आज के वक्त में पूरी दुनिया पर इंटरनेट का शासन चल रहा है जितनी भी तरह के व्यवसाय हैं वह दुनिया के सामने लाने के लिए लोग अब वेबसाइट का यूज कर रहे हैं और इस डिजिटल दौर में सभी व्यापारियों को अपने प्रोडक्ट ओर सर्विस को दुनिया भर के लोगों तक पहुंचाने के लिए इंटरनेट में अपनी पहचान बनाना बहुत जरूरी हो गया है आप इंटरनेट केवल जानकारी देने का काम नहीं करता बल्कि लोग अपने सामान और कौशल (skills)प्रदर्शित करने के लिए भी इंटरनेट का सहारा लेते हैं और इस काम के लिए आवश्यक है वेबसाइट है जिसके द्वारा अपनी बात लोगों तक पहुंचाई जाती है पहले जहां बड़ी-बड़ी कंपनियां अपनी वेबसाइट बनाती थी वहीं आज छोटी कंपनियां भी अपनी वेबसाइट बना रही है ।

Web designer kaise bane

अब आपके मन में यह सवाल आ रहा होगा कि आखिर वेबसाइट बनाता कौन है तो आपको हम बता देते हैं वेबसाइट बनाने के काम पूरा करता है एक वेब डिजाइनर . Web designer के पास कंप्यूटर और उससे जुड़े tools का भरपूर ज्ञान होता है जिसका इस्तेमाल करके वह वेब डिजाइनिंग कर पाते हैं अगर आप भी web designer बनना चाहते हैं तो हमारे इस लेख को  पूरा जरूर पढ़े ताकि आपको web designer के बारे में पूरी जानकारी मिल सके और आप एक अच्छे web designer बन सके ।।

वेब ब्राउजर क्या हैं

Web designer होता क्या हैं  ?

वेबसाइट बनाने की प्रकिया (process) को वेब डिजाइनिंग कहा जाता है जिसमें web page layout,  कांटेक्ट प्रोडक्ट्सन (संपर्क उत्पादन),  graphic design कई चीजें शामिल हैं । जो व्यक्ति वेबसाइट बनाने का कार्य करता है उसे वेब डिजाइनर कहा जाता है 

वेब डिजाइनर बनने की सबसे अच्छी बात ये होती है कि आजकल किसी भी प्राइवेट या सरकारी क्षेत्र  वेब डिजाइनर को नौकरी के ढेरों सारे ऑप्शन मिल जाते हैं । एक वेब डिजाइनर का मुख्य कार्य वेबसाइट को ही डिजाइन करना नहीं होता हैं बल्कि अपने यूजर्स और ग्राहक जरूरत को समझते हुए वेबसाइट को एक आकर्षक रूप देना होता है एक वेब डिजाइनर कार्य वेबसाइट का लेआउट , स्ट्रक्चर,  आर्किटेक्चर (Architect) आदि सब तैयार करना होता है वो वेबसाइट का होम पेज से लेकर कांटेक्ट तक को कुछ इस तरीके से डिजाइन करते हैं कि रिडर्स और views बार-बार उस वेबसाइट में जाना पसंद करते है। वेब डिजाइनर के लिए वही लोग परफेक्ट होते हैं जिन्हें अपने टेड  के अनुसार वेबसाइट को डिजाइन करना होता है और कांटेक्ट को उपस्थित करना होता है इस कैरियर के लिए क्रिएटिविटी  का होना बहुत जरूरी है वेब डिजाइनर किसी वेबसाइट किसी वेबसाइट को बनाने के लिए सॉफ्टवेयर टूल्स और प्रोग्रामिंग भाषाओ का इस्तेमाल करते हैं।

वेबसाइट को Hypertext markup language (HTML) द्वारा बनाया जाता है इस लैंग्वेज के html tag वेबसाइट की स्ट्रक्चर को बनाने में अहम भूमिका निभाते हैं वेब पेज के layout   को डिजाइन करने के लिए और उसे आकर्षित बनाने के लिए  cascading style sheet लैंग्वेज का इस्तेमाल किया जाता है किसी वेब  पेज में टेक्स्ट कलर , फाॅन्ट और स्टाइल और अन्य पहलुओं को  डिजाइन करने के लिए  CSS का इस्तेमाल किया जाता है इंटरनेट में उपस्थित सभी वेब पेज HTML और CSS की सहायता से ही बनाये गये होते हैं HTML और CSS के अलावा ग्राफिक डिजाइन का भी इस्तेमाल किया जाता है वेबसाइट बनाने जावास्क्रिप्ट प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का उपयोग किया जाता है जावास्क्रिप्ट की मदद से हम वेबसाइट को ऐसा डिजाइन कर सकते हैं जिसमें यूज़र के किसी भी एक्शन को कैप्चर किया जा सकता है

जैसा कि आप जब किसी वेबसाइट में जाकर किसी आइकन में क्लिक करते हैं और वहां पर आपको नये कांटेक्ट दिखाई देते हैं ये काम जावास्क्रिप्ट से ही संभव हो पाता है वेबसाइट बेहतर तरीके से काम कर सके इसके लिए उसके maintenance (रखरखाव) बहुत जरूरी है इसीलिए वेब डिजाइनिंग के कार्य  होने वाली  गलतियों को नियमित रूप से चेक करके उन्हें सही करने का काम भी वेब डिजाइनर का होता है।।

वेब डिजाइनर बनने के लिए क्या-क्या स्किल होनी चाहिए

1:एक वेब डिजाइनर बनने के लिए व्यक्ति में creativity (रचनात्मक ) और अपने कार्य (work)के प्रति रूचि (interest) होना बेहत आवश्यक है 

2:इसमें पढ़ाई की क्वालिफिकेशन होना ज्यादा जरूरी है कि आप में हमेशा कुछ नया  और अलग करने की चाहत होनी चाहिए

3: creativity के साथ इमेजिनेशन (कल्पना) का गुण भी होना आवश्यक है

4: एक वेब डिजाइनर को वेब डिजाइनिंग के समय काम आने वाली हर तकनीक का अच्छे से बता  होना जरूरी है जिसके लिए कंप्यूटर का भरपूर ज्ञान होना आवश्यक है जैसे = HTML, और CSS का ज्ञान भी होना चाहिए

 5:वेबसाइट बनाने के लिए जिन tools का इस्तेमाल होता है उनका भी ज्ञान होना जरूरी है जैसे = photoshop . 

6:इस बात का ध्यान रखना आवश्यक है कि कभी भी किसी दूसरी वेबसाइट का डिजाइन स्टाइल और कांटेक्ट की कॉपी ना करें इससे आपकी वेबसाइट में कॉपीराइट की समस्या आ जाएगी.

HTML और HTML5 क्या हैं ?

वेब डिजाइनर कैसे बने

Web designer वह होता है जो विभिन्न कंप्यूटर भाषाएं की सहायता से अपने स्किल से एक बेहतरीन वेबसाइट और वेब पेज को डिजाइन करता है वह यह निश्चित करता है कि आखिर में वेबसाइट बनने के बाद कैसी दिखेगी कितनी जल्दी वेबसाइट खुलेगी पेज कितना responsive रहेगा ये सब कुछ वेबसाइट डिजाइन के अंदर शामिल है एक सफल वेब डिजाइन बनने के लिए वेबसाइट बनाने वाली style language सीखनी होगी 

जब हम किसी नई चीज के बारे में जानना चाहते हैं तो सबसे पहले हमें उसे बेसिक से सीखना जरूरी होता है तो इसके लिए HTML, CSS और Java script की कोडिंग सीखना होगा । इसके अलावा photoshop सॉफ्टवेयर का भी इस्तेमाल करना सीखना होगा जिससे कि इमेज कैसे बनाना है यह आप सीख पाएंगे लगातार कोडिंग अभ्यास करने से आप एक बेहतर वेब डिजाइनर (web designer) बन सकते हैं। 

वेब डिजाइनिंग में अपनी स्किल को निखारने के लिए आप वेब डिजाइनिंग का कोर्स कर सकते हैं ताकि आप कोडिंग अच्छे से सीख सकें। ।

वेब डिजाइनर बनने के लिए क्या क्वालिफिकेशन होनी चाहिए

Web डिजाइनर बनने के लिए आपको HTML, CSS और Java भाषाओ के बारे में जानना बहुत जरूरी है अगर आपको कोडिंग और script अच्छा ज्ञान है तो आप इस क्षेत्र  तेजी से आगे बढ़ सकते हैं.

Web design  क्षेत्र में किसी विशेष योग्यता की आवश्यकता  नहीं होती अगर आप को वेब डिजाइनर बनने की इच्छा है तो इसकी शुरुआत आप इंटरमीडिएट (12 वी)  पास करने के बाद इस  लाइन में जा सकते हैं । उसके बाद  बेव डिजाइनिंग में सर्टिफिकेट डिप्लोमा और डिग्री के कोर्स करके आप कदम आगे बढ़ा सकते हैं

गूगल सर्च इंजन में ब्लॉग रैकं कैसे बढाये

वेब डिजाइनिंग सीखने के लिए कौन-कौन से कोर्स होते हैं

वेब डिजाइनिंग सीखने  के लिए कई सारे कोर्स उपलब्ध होते हैं जैसे कि डिग्री डिप्लोमा , सर्टिफिकेट कोर्से जिन्हें सीखने के लिए आप कोई बढ़िया  प्राइवेट और  सरकारी संस्थानों या कोचिंग ज्वाइन कर सकते हैं इन कोर्सों में वेबसाइट बनाने के लिए जिन  भाषाओं या टूल्स की जरूरत होती है उन्हीं चीजों पर पर ज्यादा ध्यान दिया जाता है जैसे = html, CSS , web hosting, SEO आदि जैसी बहुत ही जरूरी चीजें सिखाई जाती है

डिप्लोमा कोर्स की अवधि 1 साल से लेकर 2 साल तक का होता है जिसमे आपको बहुत से सॉफ्टवेयर में काम करने के लिए जानकारी दी जाती है। जिससे आपकी web design की स्किल को सुधार होने में काफी सहायता मिलती हैं

डिग्री कोर्स की अवधि 3 साल की होती है डिप्लोमा कोर्स करके वेब डिजाइन की बेसिक चीजें सीख पाएंगे। लेकिन डिग्री कोर्स में आप वेब डिजाइन की एडवांस जानकारी सीख पाएंगे जिससे आप अलग अलग फिल्ड में जॉब पाने के योग्य के बन पाएंगे

इसके अलावा short term के सर्टिफिकेट कोर्स  दूसरे प्राइवेट संस्थानों द्वारा कराए जाते हैं जिसकी अवधि 6 महीने से लेकर 1 साल तक होती है इसी करके आप अपनी स्किल को और भी बेहतर बना पाएंगे।

डिग्री ,डिप्लोमा या सर्टिफिकेट में से कोई भी कोर्स पूरा होने के बाद आपको इसमें बहुत कुछ सीखने को मिल जाता है जैसे वेबसाइट कैसे बनाई जाती है और वेबसाइट को डिजाइन कैसे किया जाता है इन सब के बारे में आपको जानकारी मिल जाती है इन कोर्सों को सीखने की कोई उम्र नहीं होती है इसे कोई भी सिखा सकता है ए कंप्यूटर और सॉफ्टवेयर रुचि होती है।

SEO क्या हैं ?अपने blog में इसका इस्तेमाल कैसे करें

वेब डिजाइनिंग के कोर्स

वेब डिजाइनिंग सीखने के लिए कोशिश का चुनाव करना बहुत ही आसान है ये जरूरी भी है क्यों एक वेब डिजाइनिंग के रूप में अपने  व्यवसाय को शुरू करने से पहले इसके लिए महत्वपूर्ण  कोर्सो को लेना चाहिए हमने जैसा कि पहले कहा वेब डिजाइनर बनने के लिए किसी विशेष योग्यता की आवश्यकता नहीं होती है लेकिन अगर आप कहीं  वेब डिजाइनिंग का कोर्स कर लेते हैं तो आप इस क्षेत्र में बहुत जल्दी सफल हो सकते हैं

वेब डिजाइनिंग की बैचलर कोर्स 

1 :  B.S.C IN Animation  and web designing

2:  B.S.C IN Graphic and web designing

3: B.S.C IN VFX and web designing 

4: B.S.C IN multimedia (मल्टीमीडिया) and web designing

A: वेब डिजाइन की पोस्ट ग्रेजुएट कोट

1: M.S.C In multimedia (मल्टीमीडिया)and web designing 

2:  M.S.C In animation and web designing 

3: advanced diploma in web designing

4: pg certification in web designing 

B: वेब डिजाइनिंग के लिए डिप्लोमा कोर्स

1: diploma in web designing 

2: diploma in animation and web designing 

3: diploma in graphic and web designing 

4:diploma in web designing 

5: diploma in web designing and internet technology 

C: वेब डिजाइनिंग के लिए सर्टिफिकेट कोर्स 

1: certification in web designing 

2: certification in web designing and graphic design 

3: certification in web designing and 2D animation 

4: certification in web designing and internet technology 

5: certification in web development 

6: certification in HTML, CSS and PHP

7: Certification in web designing and digital marketing. 

Facebook में नया अकाउंट कैसे बनाएं और Facebook से पैसे कैसे कमाए

वेब डिजाइनर के लिए करियर क्षेत्र

टेक्नोलॉजी के बढ़ने के कारण सब कुछ धीरे-धीरे ऑनलाइन होता जा रहा है और वेब डिजाइनर का के क्षेत्र में धीरे-धीरे विकास हो रहा है आप वेब डिजाइनिंग कोर्स इन नौकरियों के लिए अप्लाई कर सकते हैः।

आप किसी कंपनी या किसी संस्था में application development graphic design, web content manager , web designer, web developer, SEO specialists आदि जैसे पद पर कार्य कर सकते हैं।

इनके अलावा आप किसी वेब डिजाइनिंग कंपनी में भी नौकरी कर सकते हैं अगर आप चाहे तो अपनी खुद की एक freelancer कंपनी खोल सकते हैं भारत में आज ऐसी बहुत सारी कंपनियां हैं जो वेब डिजाइनर को अच्छी सैलरी पैकेज देकर  हायर करते हैं  भारत में वेब डिजाइनर की सैलरी उसके अनुभव और स्किल के ऊपर निर्भर करती है 

वेब डिजाइनिंग के क्षेत्र में जो नहीं है उनकी शुरुआती सैलरी 15000 से 20000 मासिक होती है काम करते-करते जैसे आपका अनुभव भी बढ़ता जाएगा वैसे वैसे आपकी सैलरी भी बढ़ती जाएगी एक एक्सपीरियंस वेब डिजाइनर को 30000 से 40000 मासिक के आसपास सैलरी मिलती है ।।

निष्कर्ष

दोस्तों क्योंकि आपको वेब डिजाइनिंग क्या होती है और वेब डिजाइनर कैसे बने इन सब के बारे में जानकारी मिल गई होगी यदि आपके पास कोई सवाल है तो आप हमसे कमेंट करके पूछ सकते हैं और आपको यह आर्टिकल आपको कैसा लगा इस आर्टिकल को अपने दोस्तों को शेयर जरूर करें ताकि उन्हें भी जो जानकारी मिल पाए।।